शुक्रवार, 26 सितंबर 2014

12 : ये दुनिया अगर मिल भी जाए तो क्या है


          'लौट के बुद्धू घर को आए'- घर क्या आए, घर बदल न पाए। वैसे भी, समस्या से समाधान की डगर बहुत लंबी होती है, बहुत दूर ! दरअसल, समस्या को समझना बहुत बड़ी समस्या है। जो व्यक्ति समस्याओं से घिरा रहता है वह अपनी परेशानियों में इस तरह फंसा रहता है कि उसका दिमाग ठीक से काम नहीं करता और करता भी है तो नकारात्मक विचार उसके रास्ते में कांटे बिछाते रहते हैं। 'समय खराब चल रहा है'- की सोच उसे प्रत्येक उपलब्ध विकल्प पर आगे बढ़ने से रोकती है। असफल व्यक्ति के आसपास जुड़े लोग भी उसके द्वारा लिए गए निर्णयों से भयभीत रहते हैं।
          तीन दशक चले वे कठिन दिन मेरी पत्नी और बच्चों के सहयोग से कट पाए। कई बार मुझे लगता था कि उनके असुविधापूर्ण जीवन के लिए मैं जिम्मेदार हूँ, उनके साथ बहुत अन्याय हुआ। माधुरी को पहले संयुक्त परिवार की बहू होने के अपार कष्ट रहे। कष्ट का अर्थ 'घर का काम करने का कष्ट' न समझ लीजिएगा, पारिवारिक पृष्ठभूमि पर बनी पुरानी हिन्दी फिल्मों को देख लीजिएगा- वैसे सभी तमाशे ! संयुक्त परिवार से मुक्ति मिली तो भुक्कड़ पति का संग। कोई इस युग की आधुनिका होती तो निश्चय ही मुझ जैसे पति को त्याग देती। 
          मेरा अनुमान था कि शहर बदलने के निर्णय में भी वे मेरा साथ देंगी लेकिन न जाने क्यों, वे अपना मन नहीं बना पाई। उन्होंने पुणे में बसने से साफ़ मना कर दिया, मैं चुप रह गया। मेरे जीवन की यह तीसरी बड़ी भूल थी। तीसरी ? हाँ, तीसरी, पहली भूल- किशोरावस्था में जब मुझे पारिवारिक व्यापार से हटकर कुछ अलग करने का अवसर मिला, मैं उसे चूक गया; दूसरी भूल- मैंने अपनी मूर्खतावश 'पेंड्रावाला' की दूकान अपने छोटे भाई को सौंप दी, साथ में वहाँ की देनदारी अपने सिर पर ले ली; तीसरी भूल- पुणे जाने के निर्णय को मैं अमली जामा न पहना पाया। काश, मनुष्य अपने भविष्य का पूर्वानुमान लगा पाता और उसके अनुसार निर्णय लेकर आगे बढ़ता !
          भविष्य की बात चली तो एक बात बताना तो मैं आपको भूल ही गया- माधुरी की हस्तरेखा विज्ञान में बहुत रुचि थी। 'कीरो' से लेकर अनेक देसी-विदेशी भविष्यवक्ताओं की किताबों का अध्ययन उन्होंने दस-पंद्रह वर्षों तक किया और उस विज्ञान को जानने-समझने की कोशिश की। वे अपने परिचितों के हाथ देखती लेकिन किसी को कुछ बताने में संकोच करती और कहती- 'जब तक इस शास्त्र को गहराई से न जाना जाए, कोई भी भविष्यवाणी करना न्यायोचित नहीं है।' सबसे ज़्यादा वे मेरा 'पाम' झाँकती क्योंकि मेरे उनमें असंख्य रेखाओं का जाल है। पर्वत, त्रिशूल, 'क्रॉस', चतुर्भुज, त्रिभुज, शंख, जुड़ी रेखाएँ, अधूरी रेखाएँ, उलझी रेखाएँ, टूटी रेखाएँ- मतलब यह- कि जो देखना हो, सब हाज़िर है। आम तौर पर रात को सोने के पूर्व उनका अध्ययन चलता था और साथ-साथ मेरे हाथ की रेखाओं का अवलोकन भी। एक बार की बात है, मैंने उनसे कहा- 'तुम अक्सर मेरा हाथ देखती हो लेकिन कुछ बताती नहीं हो।'
'चलो, आज पूछ लो, क्या पूछना है ?' माधुरी ने कहा।
'मेरी कितनी शादियाँ होंगी ?'
'तीन।'
'पर, मेरी तो एक ही हुई है !'
'देखो, तुम्हारी रेखाएँ बता रही हैं कि शादी तुम्हारी एक ही होगी लेकिन जो बीवी आएगी वह तीन के बराबर होगी।' उन्होंने मेरा ज्ञानान्धकार दूर किया।
          पुणे प्रवास के बारे में बताने के चक्कर में कथा भटक गई और हमारे पुत्र कुन्तल की पढ़ाई के बारे में आपको बताना रह गया ! उन्होंने हमसे एक साल का दीर्घकालीन अवकाश लिया था, वह एक वर्ष उनकी निष्ठा और लगन के परीक्षण का काल था. उन्हें जैसे कोई धुन सवार हो गई थी. उन्होने बारहवीं की परीक्षा में अँग्रेजी तथा गणित में 'विशेषयोग्यता' के साथ प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण हुए। कुछ समय बाद मध्यप्रदेश व्यावसायिक मण्डल भोपाल द्वारा आयोजित 'प्री इंजीनियरिंग टेस्ट' के परिणाम आ गए। उस वर्ष 50 हजार से अधिक प्रतियोगियों ने उस प्रतिस्पर्धा में भाग लिया था, कुंतल को 80% अंकों के साथ 72वीं 'रेंक' मिली। हमारा अनुमान था कि देश के किसी प्रतिष्ठित अभियांत्रकी महाविद्यालय में उन्हें प्रवेश मिल जाएगा, जबकि कुन्तल तमिलनाडु के 'त्रिची रीजनल इंजीनियरिंग कालेज' (अब, आई॰आई॰टी॰) में प्रवेश की आस लगाए बैठे थे। 'काउंसिलिंग' के लिए भोपाल बुलाया गया था, यह तय हुआ कि साथ में मैं भी जाऊंगा लेकिन मेरे पास ठीक-ठाक कपड़े नहीं थे। माधुरी ने कहा- 'बाज़ार से दो 'रेडीमेड पेन्ट' ले आओ, वहाँ देश भर के लोग आएंगे, तुम्हें देखेंगे, पुराने कपड़े में अच्छा लगेगा क्या ?'
          अपनी जेब तंग थी लेकिन पत्नी के आदेश के तहत मैंने दो फुलपेंट खरीदे, 'अटैची' लगाई और निर्धारित तिथि को कुन्तल के साथ भोपाल पहुँच गया।

          भोपाल प्रवास के लिए जो फुलपेंट खरीदे थे, उसमें से एक की सिलाई मेरे पहनते ही उधड़ गई। डर के मारे मैंने दूसरे को पहना ही नहीं ताकि उन दोनों को दूकानदार से बदल सकूँ। अपना पुराना 'पेंट' पहनकर ही वहाँ के 'रीजनल इंजीनियरिंग कालेज' में 'काउंसिलिंग' के लिए पहुँच गए। पूरे दिन वहाँ की दौड़-धूप और बदइंतज़ामी से जी हलाकान हो गया। वहाँ पदस्थ सब लोग निहायत बद-तमीज़ थे,  काम न करने या उसे टालने के उस्ताद थे। अगर कुन्तल के प्रवेश का दबाव न होता तो मैं वहाँ 'भिड़' जाता और बात बिगड़ जाती लेकिन अपने देश में रहते-रहते चुप रहने और सहने का अभ्यास वहाँ काम आया। अजीब है हमारी व्यवस्था- घर हो या बाहर, चुप रहो !
          कुन्तल का काम बन गया, उनका मनपसंद कालेज 'त्रिची आर॰ई॰सी॰' उनको मिल गया। हम दोनों ख़ुशी-ख़ुशी बिलासपुर वापस लौट आए। मैं दोनों फुलपेंट लेकर दूकानदार के पास गया और उसका फटा-हाल दिखाया। उसने कहा- 'सिलवा देता हूँ।'
'मैं इस 'ब्रांड' का पेंट नहीं लूँगा, इसकी सिलाई इतनी कमजोर है कि यह पहनते ही खुल गई। मुझे कोई दूसरा ब्रांड दीजिए।' मैंने कहा।
'नहीं, पेन्ट बदले नहीं जाएगे, 'रिपेयरिंग' करवा देता हूँ।'
'बदलेंगे क्यों नहीं ?'
'आपकी साइज़ के हिसाब से इसकी लंबाई कम की गई है, अब इसे किसी को कैसे बेचूंगा ?'
'मेरी ऊंचाई 5'11" है, मैं लंबा हूँ, मुझसे कम ऊंचाई के ग्राहक आपको मिल जाएंगे। दूसरी बात, आप इसे उत्पादक को वापस भेजिए ताकि उसे भी मालूम पड़े कि उसने बाज़ार में कितना घटिया सामान 'सप्लाई' किया है।'
'वे वापस नहीं लेते, न ही शिकायत सुनते, मैं इसे सुधरवा देता हूँ।'
'क्या सुधारवाओगे आप ? उधड़ी हुई सिलाई या पूरा फुलपेन्ट ?'
'उधड़ी हुई सिलाई।'
'जब इसकी सिलाई कमजोर है तो यह फिर उधड़ेगा, मैं आपके पास कितनी बार इसे रिपेयरिंग के लिए लाऊँगा और आप कितनी बार सुधरवाओगे ? मुझे आपने खरीदते वक्त इसकी 'क्वालिटी' अच्छे होने का भरोसा दिलाया था, मैंने आपकी बात पर भरोसा करके इसे लिया था, अब मेरा इस 'प्रॉडक्ट' पर भरोसा नहीं, आप किसी दूसरी 'कंपनी' का दे दीजिए।'
'नहीं, वैसा नहीं हो पाएगा।'
'क्यों ?'
'ऐसा नहीं हो सकता।'
'तो फिर, इन दोनों को आप ही रख लीजिए, नमस्ते।' मैंने कहा और उस दूकान से बाहर निकल गया। बहुत मुश्किल के दिनों में तेरह सौ रुपए की वह खरीदी मुझे अखर गई। इस घटना को बीते पंद्रह वर्ष हो चुके हैं, मैं जब भी इसे याद करता हूँ, मेरा दिल कचोट जाता है।

          कुन्तल का कॉलेज में प्रवेश कराना था. प्रवेश शुल्क पंद्रह हजार रूपए, हास्टल का दो हजार, हाथ खर्च के दो हजार, त्रिची रुकने, खाने-पीने और राह खर्च के एक हजार, कुल मिलाकर बीस हजार रूपए का इंतज़ाम हो तो काम बने लेकिन प्रश्न यह था कि कैसे ? मैं अपने परिचितों में से किसी ऐसे व्यक्ति की तलाश में था जो इतनी बड़ी रकम की व्यवस्था बना दें लेकिन कुछ समझ में नहीं आ रहा था. त्रिची जाने और वापस लौटने का आरक्षण करवा लिया था लेकिन कॉलेज वाले बिना फीस लिए मानने वाले नहीं थे. जिस शाम हमें त्रिची के लिए निकलना था, धीरे-धीरे वह दिन आ पहुंचा. सुबह की चाय पीते-पीते माधुरी ने पूछा- 'तुम लोग आज शाम को निकलनेवाले हो ?'
'हाँ.'
'पैसे का इंतज़ाम हो गया ?'
'नहीं.'
'नहीं ! फिर ?'
'देखता हूँ, आज दिनभर का समय है.'
'मेरी चूड़ियाँ ले जाओ, बेच दो, देखो शायद इससे काम बन जाए.'
'नहीं, तुम्हारे गहने में हाथ नहीं लगाऊँगा, इतना बुरा समय गुजार लिया, तुमसे मैंने कभी इसके लिए नहीं कहा. इन्हें सुरक्षित रहने दो, तीनों बच्चों के विवाह में काम आएगा, कम से कम ये तो बचे रहें.' मैंने समझाया.  
          हमारे शहर में एक मोहल्ला है- गोंड़पारा, जहाँ एक मंदिर है- सीताराम मंदिर, वहाँ के 'आल-इन-वन' हैं- पं.लक्ष्मणशरण मिश्र, रविशंकर विश्वविद्यालय रायपुर में दर्शनशास्त्र के 'प्रोफेसर' थे, सेवानिवृत होने के बाद वे 'सीता-राम' की सेवा में लीन रहते हैं। उनके पास बैठना, धार्मिक-सामाजिक-राजनैतिक विषयों पर चर्चा करना, सुखद अनुभव होता है। उस दिन मन विचलित था इसलिए मैं उनके पास चला गया ताकि उनके साथ चर्चा करके मन को स्थिर कर सकूँ। नाश्ते में बिना प्याज का पोहा आया, चाय आई और लगभग एक घण्टे विविध विषयों पर बातचीत होती रही। अचानक पंडितजी ने मुझसे कहा- 'क्या बात है द्वारिका भइया, आपका मन खिन्न जैसा लग रहा है, आज आपका ध्यान कहीं और है क्या ?'
'जी, पंडित जी।'
'क्या बात है ?'
'कुन्तल का 'एडमीशन' कराने आज त्रिची के लिए निकलना है, घनघोर अर्थसंकट है, कैसे जुगाड़ करूँ- मेरी बुद्धि काम नहीं कर रही है।'
'क्या बात कर रहे हैं आप ? आपको अर्थसंकट ? सच बोल रहे हैं !'
'जी, उसी उधेड़बुन में लगा हूँ।' मैंने उनको बताया। वे सोफ़े से उठे, आलमारी खोली, चेकबुक निकाली और मुझसे पूछा- 'कितने रुपए की आवश्यकता है ?'
'बीस हजार।' मैंने कहा। उन्होंने चेक तैयार किया और मुझे दे दिया। वे बोले- 'लीजिए बीस हजार का चेक, 'सेल्फ' है, पंजाब बैंक से निकाल लीजिएगा।'
'आप मेरी इतनी मदद कर रहे हैं लेकिन एक समस्या है, मैं इसे कब वापस कर पाऊँगा, मुझे मालूम नहीं।'
'कोई बात नहीं, जब सुविधा हो, दे देंगे, ये मंदिर ट्रस्ट का पैसा है, आपसे कोई तगादा नहीं होगा।' उन्होंने बड़े प्यार से कहा। मैंने उनके चरणस्पर्श किए और दूकान आकर माधुरी को रुपए की व्यवस्था के बारे में बताया।
          उस दिन कृष्ण जन्माष्टमी का पर्व था, रात की ट्रेन से कुन्तल अपने घर से पढ़ाई के लिए निकले, सो निकल गए, आज तक वापस नहीं आए। जी हाँ, वे बाहर के ही रह गए। आप सोच रहे होंगे- 'आखिर ऐसा क्या हुआ जो वापस नहीं आए ?' बताऊंगा, ज़रूर बताऊंगा, उन्हें इंजीनियरिंग करने में चार वर्ष लगेंगे, अभी उन्हें पढ़ाई तो करने दीजिए !  

          काश, हम सब की ज़िन्दगी रोचक होती ! हम सब मज़े से जीना चाहते हैं लेकिन आस-पास के हालात हमारी चमड़ी उधेड़ते रहते हैं और हम अपने बदन को छिला हुआ देखकर भी यह नहीं तय कर पाते कि इस बार हंसें या रोएँ ! पुरानी कहावत है कि एक हाथ से ताली नहीं बजती लेकिन आपको आश्चर्य होगा कि मैंने अपने जीवन में अक्सर एक हाथ से ताली बजाई ! एक मेरा हाथ और दूसरा मेरा गाल ! घर से अलग होने के बाद भी मैं अपने परिवार से कभी अलग नहीं हुआ, अपने माँ-बाप और भाइयों से अलग नहीं हुआ। उनके दुख-सुख को अपना माना, कहा-सुनी-अपमान को दुर्लक्ष्य किया और हर मोड़ पर अपनी औकात से बाहर जाकर उनसे जुडने तथा रिश्तों को सहेजने की कोशिश की लेकिन आप तो जानते हैं कि जब परिवार में समझदारी और तालमेल इकतरफ़ा हो जाते है तो फिर आपस में शोषक और शोषित के रिश्ते बन जाते हैं, 'परिवार' की अवधारणा ध्वस्त हो जाती है।
          सिगमंड फ्रायड ने कहा है- 'आदमी असाध्य है। ज़्यादा से ज़्यादा हम इतनी उम्मीद कर सकते हैं कि वह एक समायोजित व्यक्ति की तरह जी ले, इससे ज़्यादा की कोई आशा नहीं। आदमी सुखी नहीं हो सकता। हम केवल इतना इंतज़ाम कर सकते हैं कि वह बहुत अधिक दुखी न हो।'
          घर-परिवार में कान भरने वाले अपना काम बखूबी अंजाम दे देते हैं, वे तो अपनी दुर्बुद्धि दे जाते हैं, इधर परिवार की आंतरिक व्यवस्था लड़खड़ा जाती है। हमारे घर में भी ऐसा ही हुआ। मैंने आपको बताया था कि छोटे भाई के घर छोडने के बाद दद्दा जी और अम्मा जी के लिए भोजन का 'टिफिन' हमारे घर से जाता था, अनवरत तीन वर्ष तक जाता रहा, वे दोनों भोजन और हमारी देखरेख से संतुष्ट थे, जो कुछ और खाने का मन होता तो वे माधुरी को कह देते तो वह भी बना कर उन्हें अवश्य भेजा जाता। यद्यपि हम लोग अलग घर में रहते थे लेकिन उन्हें अकेला नहीं छोड़ा जा सकता था इसलिए माधुरी अक्सर शाम के वक्त उनके पास पहुँच जाती, उनसे बातें कर लेती, स्वास्थ्य का हाल-चाल पता करके डाक्टर और दवा-दारू का इंतज़ाम करती या उसके लिए मुझसे कहती। इस 'अधिक आने-जाने' के कुछ 'अधिक' अर्थ निकाल लिए गए और कुछ परिवारजनों के पेट में दर्द होने लगा। दद्दा जी के कान सफलतापूर्वक भर दिए गए और वे उनके कहने में आ गए, संभवतया उन्हें भी हमारी भूमिका संदेहास्पद लगने लगी हो, किसी एक छुट्टी में संगीता बिलासपुर आई हुई थी, दद्दा जी को प्रणाम करने गई। बातचीत के दौरान दद्दा जी ने कुछ अज़ीब-ओ-गरीब बातें उनसे कहीं और साथ में यह भी कहा- 'तुम्हारी मम्मी टिफिन भेजती है तो कोई अहसान करती है क्या ? बाजार से दस रुपए में खाना मँगवा सकता हूँ।'
          मैं कहीं बाहर गया हुआ था, जब घर लौटा तब मुझे यह सब मालूम हुआ। मैंने माधुरी को वहाँ टिफिन  भेजने के लिए मना कर दिया। माधुरी मुझसे असहमत थी, बोली- 'दद्दा तो कहते रहते हैं, बोल दिए होंगे, उन दोनों को कौन खाना देगा ?'
'बाज़ार से मंगवाएंगे, उनके पास बहुत पैसे हैं, मैं उनको आज मना कर देता हूँ।' मैंने कहा।
'इस तरह नाराज़ मत हो, उनको बहुत अड़चन हो जाएगी।' उस रात हम दोनों ने निष्कर्ष पर पहुँचने की कोशिश करते रहे लेकिन अनिर्णय की स्थिति बनी रही। अगली सुबह माधुरी बोली- 'तुम इतनी तकलीफ़ में हो, सब मज़े में हैं, किसी को तुम्हारी तकलीफ़ समझ में नहीं आती। सारा बोझ तुम पर डालकर बाकी लोग बे-फिक्र हैं, चलो ठीक है, अब उनको सेवा का अवसर दिया जाए। ठीक है, आज से टिफिन नहीं भेजूँगी।'
          दूकान आकर मैंने दद्दाजी को फोन किया- 'कल का खाना आपको कैसा लगा ?'
'अच्छा था, क्यों ?' दद्दाजी ने पूछा.
'वह मेरे घर से आपके लिए भेजा गया आखिरी खाना था.' मैंने उन्हें बताया और अपने निर्णय की जानकारी दे दी। दद्दाजी ने मुझसे कारण पूछा तो मैंने बताया- 'आपने संगीता से ऐसा कहा है ?' दद्दाजी बोले- 'मैंने ऐसा नहीं कहा।'
'तो फिर ये बात कहाँ से आई ?'
'मुझे नहीं मालूम।'
'हो सकता है आपने ऐसा न कहा हो, संगीता ने मुझे गलत बताया हो लेकिन अब खाना नहीं आएगा। अब उन्हीं से भोजन के लिए कहिए जो लोग आपको हमारे खिलाफ भड़का रहे हैं, वे आपकी व्यवस्था करेंगे। अलग रहने और इतनी तकलीफ में होने के बावजूद हम इतना कर रहे थे फिर भी इस ढंग की बात हमें सुननी पड़ेगी, ऐसा कभी सोचा न था। मैं आपसे बहुत दुखी हो गया हूँ दद्दा जी।' इतना कहकर मैं रो पड़ा, मैंने फोन रख दिया और बहुत देर तक अपनी दूकान में बैठा रोता रहा।
         वह १० मार्च १९९९ का दिन था. उस दिन के बाद मेरी और दद्दा जी के बीच बातचीत बंद हो गई। उस दिन के बाद मैं बहुत दुखी हो गया। उस दिन के बाद दद्दाजी और अम्मा जी की दशा बिगड़ने लगी। उस दिन के बाद दद्दाजी बुरी तरह बीमार पड़ गए, सूखकर हड्डी का ढांचा रह गए। उस दिन के कुछ दिनों बाद हमारे माता-पिता को अपने घर से बेघर होना पड़ा। ये सब मेरे कारण हुआ, जी, मेरे कारण हुआ। मैं दोषी हूँ। मैं ऐसा निर्मम पुत्र हूँ जिसने अहंकार के वशीभूत होकर अपने वृद्ध माता-पिता को असमय भीषण कष्ट की ओर धकेल दिया। धिक्कारिए मुझे। मुझ जैसे दुष्ट के लिए ही गोस्वामी तुलसीदास ने लिखा था :

"मो सम कौन कुटिल खल कामी,
जेहि तन दियो ताहि बिसरायो,
ऐसो नमकहरामी." 

          हमारा घर पहले एक मंदिर था- व्यंकटेश मंदिर, जो सेठ सीताराम राधाकिशन गाड़ोदिया का था। उस मंदिर की मूर्तियों को सन 1943 में सदरबाज़ार में एक नया मंदिर बनाकर स्थानांतरित कर दिया गया और उस खाली जगह को उन्होंने अपने व्यापारिक गोदाम के रूप में परिवर्तित कर दिया। दद्दाजी के वे संघर्ष के दिन थे, किराए के मकान में रहते थे। व्यापार चला, कुछ बचत हुई तो उन्होंने इस जगह को खरीदने का मन बनाया। सेठजी से मिले, उन्होंने इसकी कीमत दस हजार बताई, दद्दाजी के पास उतने नहीं थे इसलिए उस समय नहीं खरीद पाए। एक साल बाद जब दस हजार इकट्ठा हो गए तो उस जगह की कीमत हो गई बारह हजार ! द्वारिका प्रसाद दुबे ने दो हजार उधार दिए तब इसे सन 1945 में खरीदा गया। हल्की-फुल्की मरम्मत करवा कर हमारा परिवार 'अपने घर' में रहने आया। मेरा जन्म इसी घर में सन 1947 में हुआ था।
          इस घर की लंबी दास्तान है, यह घर एक साधारण रिहायशी घर नहीं था. इसमें इतनी रोचक और हृदय -विदारक घटनाएं हुई कि बांग्ला कथाकार शंकर जैसा लेखक 'चौरंगी' जैसा वृहत् उपन्यास लिख सकता है। बब्बाजी (मेरे दादाजी) के जीवनकाल में यह घर भी था और आस-पास के निवासियों के लिए एक धर्मशाला भी, यहां लोग अपने काम-काज के लिए जब बिलासपुर आते तो हमारे घर आकर रुकते, नहाना-धोना करते। उन सबको दोनों समय हमारी अम्मा लकड़ी के धुंआ देते चूल्हे में खाना बनाकर घूँघट डाले सबको परोसती-खिलाती लेकिन चेहरे पर कोई शिकन नहीं। रात को गद्दी पर सोने के पहले सब आगंतुकों को पीतल के गिलास में गरम दूध मिलता। मेहमान बदलते रहते लेकिन सिलसिला कभी न बदलता था। 
          उस युग में 'टेंट हाउस' न थे। परिचितों के घर में होने वाले कार्यक्रमों के लिए हमारे घर के एक कमरे में कई लोहे के कढ़ाव, पीतल के बड़े-छोटे गंज, थालियाँ, गिलास, कटोरे, चौघड़ा, टेनिया, करछुल और तांबे के टोंटी वाले गंगासागर (जग) आदि भोजन बनाने-परोसने के सामान, चांदनी, दरी, पातिया, खुशबू का छिड़काव करने के लिए गुलाब-पाश आदि सामान भरे पड़े थे जो सबके दुःख-सुख के कार्यक्रमों के लिए निःशुल्क उपलब्ध थे. बरात को राजसी 'लुक' देने के लिए दूल्हे को छाया देने वाले सोने की पालिश वाली चांदी से जड़ा हुआ छत्र-चंवर और उसके साथ अन्य शोभायमान वस्तुएँ लोग आकर ले जाते, काम हो जाने के बाद वापस कर जाते और हमारे परिवार को आशीषते थे.
          बब्बाजी के निधन के बाद व्यवस्था में कुछ परिवर्तन हुए, बब्बाजी 'बड़े दिल' वाले थे, वहीं पर दद्दाजी 'बड़े आदमी' थे। दद्दाजी की शहर के धनिकों में गिनती होती थी और सब लोग उन्हें आदरपूर्वक 'सेठजी' कहते थे। वे राजनीति के चतुर खिलाड़ी थे, सफल व्यापारी थे, साफ़गोई से बातें करने वाले दुस्साहसी व्यक्ति थे। सवा छः फुट के दद्दाजी जब धोती-कुर्ता और सफ़ेद टोपी धारण करके किसी समूह में पहुँचते तो सबकी आँखें उनकी ओर टिक जाती। उनसे सब डरते थे, पता नहीं किस बात पर वे किसकी 'परेड' ले लें ! वे कहा करते थे- 'चुप रहना और गम खाना मुझे पसंद नहीं।'
           राजनीति पर चर्चा करने के लिए प्रत्येक शाम घर में बैठक सजती जो रात को ग्यारह-बारह बजे तक चलती। मंत्री हो या पूर्व मंत्री, सांसद हो या विधायक- सब दद्दाजी से बात करने, उनकी राय लेने या डांट खाने आते और खुशी-खुशी लाभान्वित होकर जाते। हमारे शहर में कान्यकुब्ज ब्राह्मणों की बहुतायत है, दद्दाजी बनिया होने के बावजूद उन सभी परिवारों के अघोषित मुखिया थे, सबके काज उनकी सहमति और अनुमति से होते थे। शहर की कोई राजनीतिक उलझन, परिवारिक समस्या, रिश्तेदारी की समस्या, हिस्से-बटवारे की समस्या, लेन-देन की समस्या, स्कूल-कालेज की समस्या यदि उत्पन्न हो जाती तो लोग उनकी शरण में आते और 'दूसरी कक्षा पास' दद्दाजी ऐसे समाधान बताते कि वे संतुष्ट होकर उनकी बैठक से निकलते और उन्हें हृदय से धन्यवाद देकर जाते।
          मुझे याद है, सन 1960 में 'छत्तीसगढ़ राइस मिल एसोसिएशन' का गठन किया गया था, दद्दाजी उसके प्रथम अध्यक्ष मनोनीत किए गए थे। घर में बैठकें होती, गहमागहमी रहती, बड़े-बड़े प्रभावशाली लोग जमीन पर बिछी दरी में बैठे-बैठे मंत्रमुग्ध होकर उनकी बातें सुनते। वे मध्यप्रदेश शासन के खाद्यमंत्रालय की सलाहकार समिति के विशेष आमंत्रित सदस्य भी थे। 
          एक बार की बात है, नई दिल्ली में केंद्र सरकार के तात्कालीन खाद्य मंत्री सदोबा के॰ पाटील ने देश के समस्त राइस मिल एसोसिएशन की बैठक आमंत्रित की जिसमें दद्दाजी छत्तीसगढ़ का प्रतिनिधित्व कर रहे थे। जब उनकी बोलने की बारी आई तो उन्होंने कहा- 'अभी तक आप लोग अंग्रेजी में जो बातें कर रहे थे, वह तो मुझे समझ में नहीं आई लेकिन एक बात समझ में आई कि जिन्हें अंग्रेजी समझ में आती है उन्हें देश की 'राइस पालिसी' समझ में नहीं आती।' उसके बाद उन्होंने केंद्र सरकार की 'एक राज्य से दूसरे राज्य में चावल भेजने पर पाबंदी' की नीति की जबर्दस्त धुलाई की। खाद्यमंत्री ने अगली सुबह उन्हें अपने घर बुलाया और विस्तार से बात की। दद्दाजी ने उन्हें समझाया- 'छत्तीसगढ़ चावल का कटोरा है जो पूरे देश की जरूरत को पूरा कर सकता है, आप हमें चावल अन्य प्रान्तों में भेजने की अनुमति दीजिए, हम पूरे देश को चावल से भर देंगे।' खाद्य मंत्री को उनकी बात जमी और केंद्र सरकार ने एक से दूसरे राज्य में चावल की आवाजाही पर लगे प्रतिबन्ध को वापस ले लिया परिणामस्वरूप देश में चावल की किल्लत दूर हो गई और साथ ही साथ छत्तीसगढ़ के चावल मिल मालिकों को चावल की अच्छी कीमत मिलने से उनकी तिजोरियाँ भर गई।   
          समय गुजरता गया, भरा-पूरा घर धीरे-धीरे खाली होता गया। छः लड़कियां ब्याह कर चली गई, बड़े भैया सन 1975 में रायपुर चले गए, मुझे 1984 में घर छोड़ना पड़ा और छोटे भाई राजकुमार 1996 में घर से चले गए। अब उस घर में दो लोग बचे, 83 वर्षीय दद्दाजी और 81 वर्षीय अम्माजी। उनको हो रही असुविधा को देखते हुए 2 जुलाई 1999 को दद्दाजी और अम्माजी को बड़े भैया अपने साथ रायपुर ले गए। गोलबाजार का वह चौदह कमरों वाला तीन मंज़िला घर उन्हें सदा के लिए छोड़कर जाना पड़ा. वहां 'गोदरेज' का ताला लटक गया। गहमागहमी से भरपूर उस घर में सन्नाटा पसर गया।  

          रायपुर में दद्दाजी की तबीयत और बिगड़ गई, जांच में मालूम हुआ कि किडनी सही ढंग से काम नहीं कर रही है, उन्हें एक किडनी विशेषज्ञ के अस्पताल में भरती किया गया. मैं उन्हें देखने गया, बहुत देर मैं उनके पास खड़ा रहा, उन्होंने बर्फ़ीली निगाह से एक बार मुझे देखा और दूसरी ओर देखने लगे. कुछ दिनों बाद मुझे खबर लगी कि उन्हें एक प्राकृतिक चिकित्सालय में भर्ती किया गया है, मैं फ़िर उन्हें देखने गया. उनका शरीर सूख कर कांटा हो गया था और आखें दयनीय हो गई थी. उस दिन भी उन्होंने मुझसे बात नहीं की. मेरी उनसे बात करने की हिम्मत नहीं हो रही थी लेकिन उनकी दशा मुझसे देखी भी नहीं जा रही थी. वे अपने जीवन की अंतिम पारी को किसी प्रकार खेलने की कोशिश कर रहे थे.
          कुछ दिनों बाद, मैं अपनी दूकान मधु छाया केन्द्र में बैठा था, फ़ोन की घंटी बजी, आवाज़ दद्दाजी की थी. उनकी आवाज़ भर्राई हुई थी- ‘हम बोल रहे हैं.’
‘जी, प्रणाम दद्दाजी.’ मैंने कहा.
‘तुम नाराज़ हो?’
‘नहीं, ऐसी बात नहीं.’
‘तुमको समझने में हमसे बड़ी भूल हुई, हमको माफ़ करो.’
‘आप कैसी बात कर रहे हैं दद्दाजी ! आप ऐसा मत बोलिए, गलती मेरी है, आप मुझे माफ कर दीजिए.’
‘नहीं तुम्हारी गलती नहीं है, जो हो गया सो हो गया.’
‘लेकिन दद्दाजी एक बात है, आपने मुझे समझने में बहुत देर लगा दी, आपको पता है कि मैं अब बावन वर्ष का हो गया हूं.’ मैं रो पड़ा. कुछ देर वे चुप रहे फ़िर उन्होंने कहा- ‘तुम कल ही रायपुर आ जाओ, तुमसे कुछ ज़रूरी बात करनी है.’
‘जी, आ जाऊंगा.’ मैंने कहा.
          अगले दिन, 15 अक्तूबर 1999 को मैं उनके पास पहुंचा। उनके दोनों घुटने मुड़ गए थे जिसे वे सीधे नहीं कर पा रहे थे, शरीर अशक्त हो गया था, आँखें धंस गई थी। मुझसे धीमी आवाज में बोले- 'आओ छोटे भइया, बैठो।'
'जी।' मैंने उनके चरण स्पर्श किए और उनके बगल में बैठ गया।
'तुमसे सलाह लेनी है।'
'जी।'
'मैं बटवारा करना चाहता हूँ, तुम्हारी क्या राय है ? कैसा किया जाए ?'
'भला मैं क्या सलाह दूँ आपको, जैसा आप उचित समझें, वैसा करें।'
'देखो मैं सिर्फ तुमसे सलाह ले रहा हूँ, और किसी से तो पूछा नहीं।'
'आप तो सबकी समस्या का समाधान करते थे, अब मैं आपको क्या बताऊँ ?'
'अच्छा यह बताओ कि तुम क्या चाहते हो?'
'दूकान, 'पेन्ड्रावाला'।'
'क्यों? उस दूकान के लिए मुन्ना (छोटा भाई ) ज़िद कर रहा है।'
'हमारे परिवार की इज्ज़त उस दूकान से जुड़ी हुई है, वहाँ की दुर्दशा मुझसे देखी नहीं जाती।'
'छोड़ो उसको, तुम लाज ले लो, उसे चलाओ। लाज़ अच्छी चलेगी तो परिवार की इज्ज़त अपने आप बढ़ जाएगी और तुम्हारे सब काम अच्छे से हो जाएंगे, हमारी बात मानो।'
'जैसा आप कहें।'
'कल जाकर लाज़ का ताला खोलो, दो साल से बंद है, साफ-सफाई करवाओ और शुभ मुहूर्त देखकर उसे चालू करो।'
'जी।' मैंने कहा।
          अगली सुबह साफ-सफाई का काम शुरू किया गया। उस दौरान मेरी नज़र पड़ी कि कमरों में लगे उन्नीस 'सीलिंग फेन' गायब हैं तब समझ में आया कि किसी चोर ने मेरे लाज में घुसने के पहले से ही सफाई-अभियान चालू कर रखा था ! यदि मेरे आने में एक-दो दिन की भी देर हो जाती तो वहाँ लगे सभी 45 पंखे चोरित हो जाते। मैं चोरी की इत्तला देने 'सिटी कोतवाली' गया तो उन्होंने 'रिपोर्ट' नहीं लिखी और मुझे आश्वासन दिया- 'आप जाओ, हम पता करते हैं।'
'रिपोर्ट तो लिख लीजिए।' मैंने आग्रह किया।
'आपको रिपोर्ट लिखवाना है या पंखे चाहिए ?'
'पंखे चाहिए।'
'तो अपना काम कीजिए, हम चोर का पता लगाते हैं।' थाना प्रभारी ने कहा। बाद में उनको कई बार याद दिलाता रहा, वे चोर का पता लगाते रहे।  पंद्रह वर्ष बीत चुके हैं, वे अभी तक पता नहीं कर पाएँ हैं। पुलिस के पास काम का बहुत अधिक दबाव रहता है, बेचारे फुर्सत पाएं तो पंखा-चोर खोजें। मैं सोचता हूँ कि उन्नीस पंखों को ढूँढने में उन्हें उन्नीस वर्ष का समय अवश्य दिया जाना चाहिए ! चार वर्ष और प्रतीक्षा करूंगा फिर यदि जीवित रहा तब विचार करूंगा कि आगे क्या किया जाए ?
          31 अक्तूबर 1999 को सर्वार्थ सिद्धि योग का मुहूर्त था, लाज़ में विधि-विधान से पूजन हुआ और मेरे बब्बाजी श्री जगदीश नारायण की याद में 'श्री जगदीश लाज़' का प्रारम्भ हुआ। पूजन के कार्यक्रम में परिवार के अन्य सभी सदस्य उपस्थित रहे लेकिन अत्यंत कमजोर स्वास्थ्य के कारण दद्दाजी नहीं आ पाए। जिस लाज़ को दद्दाजी ने अपनी वृद्धावस्था को दरकिनार कर अपने सामने खड़े होकर बनवाया, पच्चीस वर्ष तक उसके निर्माण में सतत लगे रहे, उस प्रकल्प को आरंभ होते वे अपनी आँखों से नहीं देख पाए। वे कभी नहीं देख पाए।

           शहर के बीच स्थित सदरबाज़ार में लाज़ खुल गया लेकिन इक्का-दुक्का ग्राहक आते और हम लोग दिन-रात खाली बैठे रहते। एक दिन माधुरी ने मुझसे पूछा- 'क्या लोगों को अपना लाज़ दिखाई नहीं पड़ता ?'
'दिखाई पड़ने से कुछ नहीं होता, जब लोगों को मालूम पड़ेगा तब चलेगा और उसमें बहुत समय लगेगा।' मैंने बताया। हमारे आर्थिक कष्ट प्रबल थे, ऐसा लगता था कि कब व्यापार चले, कब हालात सुधरें !
          एक माह बाद दद्दाजी ने हमें रायपुर बुलाया। तीनों भाई उनके साथ बैठे। आपसी चर्चा के बाद दद्दाजी ने अपनी समस्त चल-अचल संपत्ति हम तीनों भाइयों में वितरित कर दी। दद्दाजी ने अम्माजी के भविष्य के लिए कोई आर्थिक प्रावधान नहीं किया जो मेरी समझ में उनकी बड़ी भूल थी। इस पारिवारिक बैठक में एक रोचक तथ्य भी उभर कर आया- जिसे कुछ नहीं चाहिए था, उसे सब कुछ चाहिए था।
          उस बैठक के अन्त में दद्दाजी ने मुझसे कहा- 'मुझे तुमसे एक बड़ी शिकायत है।'
'मुझसे शिकायत ? बताइए।' मैंने उनसे पूछा।
'तुमने गाँव के लोगों से उधार मांगा, तुमने हमारी इज्ज़त का ख्याल नहीं किया ?'
'यह सही है कि मैंने उधार लिया लेकिन क्या मेरे उधार का तगादा करने आपके पास कोई आया ?'
'नहीं।'
'क्या किसी से आपने यह सुना कि मैंने किसी की रकम दबा दी, उसे ब्याज नहीं दिया या किसी का रुपया वापस करने से इंकार कर दिया ?'
'नहीं।'
'तो फिर आपकी इज्ज़त कैसे चली गई ?'
'तुम बात तो ठीक कह रहे हो।'
'आज बात निकली तो एक सवाल मैं आपसे पूछना चाहता हूँ.'
'हाँ, पूछो.'
'आपके रहते मुझे गाँव से उधार क्यों मांगना पड़ा ?'
'हाँ, ये हमारी गलती थी।' वे तुरंत बोले और उनके चेहरे पर अफसोस जैसा भाव उभरा।
          27 फरवरी 2000 को रायपुर से मुझे खबर मिली कि दद्दाजी की स्थिति गंभीर है। घर जाने के रास्ते में बस स्टेंड के पास मुझे रायपुर जाती बस दिखी, मैं स्कूटर को रास्ते की एक दूकान के सामने खड़ा करके उस बस में बैठ गया। शाम को छः बजे रायपुर पहुँच गया, बड़े भैया के घर गया, वहाँ से अपने भतीजे तेजप्रकाश के साथ हास्पिटल पहुंचा। दद्दाजी ने मुझे देखा, मैंने अपने दोनों हाथ से उनके दोनों हाथ थामे, हम दोनों के मध्य मौन संभाषण हुआ। अचानक उनकी साँस बहुत तेजी से चलने लगी और हमारे देखते-देखते उखड़ गई, उनकी आंखें पथरा गई। अजातशत्रु जैसा तेजस्वी व्यक्ति मृत्यु से पराजित होकर निस्तेज हो गया।
          उनकी पार्थिव देह को रात में ही बिलासपुर ले आए और उसी घर में लिटा दिया जहां उन्होंने अपने जीवन के स्वर्णिम वर्ष बिताए थे। उस दिन उनका शान्त पड़े रहना बहुत अजीब लग रहा था। ऐसा लगे, ये अभी उठ बैठेंगे और हमें डाँटेंगे- 'तुम लोग क्या मेरी अंतिम विदाई का इंतज़ाम ठीक से नहीं कर सकते ?'
         28 फरवरी को उनकी अंतिम यात्रा निकलने के पूर्व सबने श्रद्धासुमन अर्पित किए, मैंने भी पुष्प चढ़ाए और चरण स्पर्श करते समय बीती शाम से रुके मेरे आँसू फूट पड़े। उस समय मैं अपने पिता को प्रणाम नहीं कर रहा था, मैं अपने गुरु को विदा कर रहा था जिसने मेरा व्यक्तित्व गढ़ा, व्यापार सिखाया, बात करना सिखाया, बोलना सिखाया, समय की कीमत करना सिखाया, अनुशासन, ईमानदारी और स्पष्टवादिता सिखाई।
          उनके अंतिम संस्कार में सम्मिलित नागरिकों ने उन्हें श्रद्धांजलि देने के लिए शोक सभा की जिसमें दद्दाजी के मित्र (अब दिवंगत) श्री रोहिणी कुमार बाजपेई ने कहा- 'शहर का शेर आज चला गया।'

==========                                               

2 टिप्‍पणियां:

  1. दरअसल,
    समस्या को समझना बहुत बड़ी समस्या है।
    जो व्यक्ति समस्याओं से घिरा रहता है वह
    अपनी परेशानियों में इस तरह फंसा रहता है
    उसका दिमाग ठीक से काम नहीं करता और
    करता भी है तो नकारात्मक विचार उसके
    रास्ते में कांटे बिछाते रहते हैं। 'समय खराब
    चल रहा है'- का सोच उसे प्रत्येक उपलब्ध
    विकल्प पर आगे बढ़ने से रोकता है। उसके
    आसपास जुड़े लोग भी भयभीत रहते हैं।



    बिलकुल सहीं
    पर उसका उपाय क्या है । दलदल में फंसे हुए को बाहरी मदद की जरुरत होती ही है । अब देखना ये है की आपकी कहानी में आप खुद उभरे या किसी ने खींच निकाला ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बेनामी जी, पेज अधूरा चला गया था, कृपया फिर से पढ़ें।

    उत्तर देंहटाएं